हनुमान चालीसा में बजरंगबली के आप 109 नाम रोजन पढ़ सकते है !! ~ Balaji Kripa

Tuesday, 14 October 2014

हनुमान चालीसा में बजरंगबली के आप 109 नाम रोजन पढ़ सकते है !!


परम पूज्य आचार्य चरण गोस्वामी तुलसीदासजी रचित श्री हनुमान चालीसा में वर्णित श्री हनुमानजी के 109 नामों का उल्लेख श्री गोस्वामीजी ने बड़ी चतुराई के साथ किया है। श्री हनुमान चालीसा के 109 नाम श्री हनुमत सहस्त्र नाम से पूर्णतया मेल खाते हैं अन्य ग्रंथ से लिए गए हैं। श्री हनुमान चालीसा के प्रारंभिक एवं समापन के दोहों में जो नाम प्राप्त हैं, वे यदि और मिला दिए जाएं तो नामों की संख्या 122 हो जाती है।
1. श्री बाबा हनुमान- विशाल टेढ़ी ठुड्डी वाले !
2. श्री बाबा ज्ञानसागर, ज्ञान के अथाह सागर।
3. श्री बाबा गुण सागर, गुणों के अथाह सागर।
4. श्री बाबा कपीश, वानरों के राजा।
5. श्री बाबा तीनों लोकों को उजागर करने वाले !
6. श्री बाबा रामचन्द्रजी के दूत बनने वाले !
7. श्री बाबा अतुल बलशाली !
8. श्री बाबा माता अंजनी के पुत्र कहलाने वाले !
9. श्री बाबा पवन (वायुदेव) के पुत्र कहलाने वाले !
10. श्री बाबा वीरों के वीर कहलाने वाले महावीर !
11. श्री बाबा विक्रम विशेष पराक्रमी कहलाने वाले !
12. श्री बाबा बजरंगी ब्रज के समान अंग वाले !
13. श्री बाबा सभी प्रकार की कुमती का निवारण करने वाले !
14. श्री बाबा सभी प्रकार की सुमती प्रदान करने वाले !
15. श्री बाबा कंचन वर्ण स्वर्ण के समान वेश धारण करने वाले !
16. श्री बाबा (सुवेशा) भले प्रकार के वेश धारण करने वाले !
17. श्री बाबा कानों में कुण्डल धारण करने वाले !
18. श्री बाबा कुंचीत केश घुंघराले बाल धारण करने वाले !
19. श्री बाबा हाथ में गदा धारण करने वाले !
20. श्री बाबा हाथ में ध्वजा धारण करने वाले !
21. श्री बाबा मुन्ज की जनेऊ धारण करने वाले !
22. श्री बाबा परमात्मा शिवशंकर के अवतारी !
23. श्री बाबा वानरराज केशरी सुपुत्र कहलाने वाले !
24. श्री बाबा (विशेष) तेज प्रताप धारण करने वाले !
25. श्री बाबा सारे विश्व से पुजित (महाजग वंदन) !
26. श्री बाबा सारी विद्याओं में पारंगत !
27. श्री बाबा सर्वगुण संपन्न !
28. श्री बाबा अत्यंत कार्यकुशल (अतिचातुर) !
29. श्री बाबा श्रीराम के कार्य हेतु सदा आतुर रहने वाले !
30. श्री बाबा श्रीराम चरित्र सुनने में आनंद रस लेने वाले !
31. श्री बाबा श्री राजा रामजी के हृदय अंचल में बसने वाले !
32. श्री बाबा लक्ष्मणजी वाले हृदय में बसने वाले !
33. श्री बाबा श्री सीताजी के हृदय में बसने वाले !
34. श्री बाबा श्री अति लघुरूप धारण करने वाले !
35. श्री बाबा अति भयंकर रूप धारण करने वाले !
36. श्री बाबा लंका दहन करने वाले !
37. श्री बाबा भीमकाय (विशाल) रूप धारण करने वाले !
38. श्री बाबा असुरों का नाश करने वाले !
39. श्री बाबा श्री रामचन्द्रजी के काज संवारने वाले !
40. श्री बाबा संजीवनी बूटी लाने वाले !
41. श्री बाबा लक्ष्मणजी के प्राण बचाने वाले !
42. श्री बाबा रघुपतिजी का आलिंगन पाने वाले !
43. श्री बाबा रघुपतिजी से प्रशंसा पाने वाले !
44. श्री बाबा श्री भरतजी के समान प्रेम पाने वाले !
45. श्री बाबा हजारों मुखों से यशोगान श्रवण करने वाले !
46. श्री बाबा सनकादिक ऋषियों, महर्षियों द्वारा यशोगान श्रवण करने वाले !
47. श्री बाबा मुनियों द्वारा यशोगान श्रवण करने वाले !
48. श्री बाबा ब्रह्माजी द्वारा यशोगान श्रवण करने वाले !
49. श्री बाबा देवताओं द्वारा यशोगान करने वाले !
50. श्री बाबा नारदजी द्वारा यशोगान श्रवण करने वाले !
51. श्री बाबा सरस्वती द्वारा यशोगान श्रवण करने वाले !
52. श्री बाबा शेषनागजी द्वारा यशोगान श्रवण करने वाले !
53. श्री बाबा यमराजजी द्वारा यशोगान श्रवण करने वाले !
54. श्री बाबा कुबेरजी द्वारा यशोगान श्रवण करने वाले !
55. श्री बाबा सब दिशाओं के रक्षकों द्वारा यशोगान श्रवण करने वाले !
56. श्री बाबा कवियों द्वारा यशोगान श्रवण करने वाले !
57. श्री बाबा विद्वानों द्वारा यशोगान श्रवण करने वाले !
58. श्री बाबा पंडितों द्वारा यशोगान श्रवण करने वाले !
59. श्री बाबा श्री सुग्रीवजी पर उपकार करने वाले !
60. श्री बाबा श्री सुग्रीवजी को रामजी से मिलाने वाले !
61. श्री बाबा श्री सुग्रीवजी को राजपद दिलाने वाले !
62. श्री बाबा श्री वि‍भीषणजी को मंत्र प्रदान करने वाले !
63. श्री बाबा श्री वि‍भीषणजी को लंकापति बनाने वाले !
64. श्री बाबा हजारों योजन तक उड़ने वाले !
65. श्री बाबा श्री सूर्यनारायण को फल समझकर निगलने वाले !
66. श्री बाबा श्रीराम नाम मुद्रिका मुख में रखने वाले !
67. श्री बाबा जलधी (समुद्र) को लांघने वाले !
68. श्री बाबा कठिन कार्य को सरल बनाने वाले !
69. श्री बाबा श्री रामचन्द्रजी के द्वार के रखवाले !
70. श्री बाबा श्री रामचन्द्रजी के दरबार में प्रवेश की आज्ञा प्रदान करने वाले
(श्री रामजी की आज्ञा के बगैर कहीं न जाने वाले) !
71. श्री बाबा शरणागत को सब सुख प्रदान करने वाले !
72. श्री बाबा निज भक्तों को निर्भय (रक्षा) प्रदान करने वाले !
73. श्री बाबा अपने वेग को स्वयं ही संभालने वाले !
74. श्री बाबा अपनी ही हांक से तीनों लोक कम्पायमान करने वाले !
75. श्री बाबा भूतों के भय से भक्तों को मुक्त करने वाले !
76. श्री बाबा पिशाचों के भय से भक्तों को मुक्त करने वाले !
77. श्री बाबा महावीर श्रीराम नाम श्रवण करने वाले !
78. श्री बाबा भक्तों के सभी रोगों का नाश करने वाले !
79. श्री बाबा भक्तों की सभी पीड़ाओं का नाश करने वाले !
80. श्री बाबा मन से ध्यान करने वालों के संकट से छुड़ाने वाले !
81. श्री बाबा कर्म से ध्यान करने वालों को संकट से छुड़ाने वाले !
82. श्री बाबा वचन से ध्यान करने वालों के संकट से छुड़ाने वाले !
83. श्री बाबा तपस्वी राजा रामजी के कार्य को सहज करने वाले !
84. श्री बाबा भक्तों के मनोरथ (कामनाएं) पूर्ण करने वाले।
85. श्री बाबा भक्तों को जीवन फल (रामभक्ति) प्रदान करने वाले !
86. श्री बाबा चारों युगों में अपना यश (प्रताप) फैलाने वाले !
87. श्री बाबा कीर्ति को सर्वत्र फैलाने वाले !
88. श्री बाबा जगत को उजागृत करने वाले !
89. श्री बाबा सज्जनों की रक्षा करने वाले !
90. श्री बाबा दुष्टों का नाश करने वाले !
91. श्री बाबा श्रीरामजी का असीम प्रेम पाने वाले !
92. श्री बाबा अष्ट सिद्धि प्रदान करने वाले !
93. श्री बाबा नवनिधि प्रदान करने वाले !
94. श्री बाबा माता सीताजी से वरदान पाने वाले !
95. श्री बाबा रामनाम औषधि रखने वाले !
96. श्री बाबा श्री रघुपतिजी के दास कहलाने वाले !
97. श्री बाबा अपने भजन से रामजी की प्राप्ति कराने वाले !
98. श्री बाबा जन्म-जन्मांतर के दुख दूर करने वाले !
99. श्री बाबा अंतकाल में राम दरबार में पहुंचाने वाले !
100. श्री बाबा निज भक्तों को श्रीराम भक्त बनाने वाले !
101. श्री बाबा अपने सेवकों को सब सुख प्रदान करने वाले !
102. श्री बाबा अपने सेवकों के संकट मिटाने वाले !
103. श्री बाबा अपने सेवकों की सब पीड़ा मिटाने वाले !
104. श्री बाबा श्री हनुमानजी बलियों के वीर !
105. श्री बाबा श्री सद्गुरुदेव स्वरूप श्री हनुमानजी !
106. श्री बाबा अपने भक्तों को बंधनों से छुड़ाने वाले !
107. श्री बाबा अपने भक्तों को महासुख प्रदान करने वाले !
108. श्री बाबा नित्य पाठ करने वालों को सिद्धियों की साक्षी करवाने वाले !
109. श्री बाबा श्री तुलसीदासजी के हृदय में निवास करने वाले।


1 comment:

  1. मित्रों आज के युग में हमें हनुमान की आवश्यकता है। ऐसे हनुमान की जो देश भक्त हो, ज्ञानी हो, त्यागी हो, चरित्र सम्पन्न और जिसमें चतुरशीलता हो।

    ReplyDelete