नाम जाप, भजन, कीर्तन का महत्व !! ~ Balaji Kripa

Friday, 28 November 2014

नाम जाप, भजन, कीर्तन का महत्व !!

हमारा सौभाग्य है कि हम इस कलिकाल में धरती पर आये हैं. बात यह है की भारत भूमि पर हजारों वर्ष पूर्व प्रगटे युग-दृष्टा मनीषियों - ऋषि मुनियों ने उस काल में ही यह उद्घोषित कर दिया था कि सतयुग, त्रेता एवं द्वापर युग के जीवों के द्वारा मुक्ति प्राप्ति हेतु की जाने वाली कठिन चेष्टाओं - (तपश्चर्या -यज्ञ आदि) से, कलि युग के जीव मुक्त हैं. उन्हें मोक्ष प्राप्ति हेतु उतनी कठिन साधना नही करनी है. भारतीय पौराणिक धर्म ग्रन्थ "श्री मद् भागवत " में इसका उल्लेख है आधुनिक काल के गोस्वामी तुलसीदास कृत "रामचरितमानस" मे "छहों शास्त्र सब ग्रंथन को रस" समाहित है. युगदृष्टा तुलसी ने इसमें अपने निजी अनुभवों के आधार पर हमे यह विश्वास दिलाया है कि कलि काल के जीवों को गाते बजाते केवल नाम जाप, सुमिरन और भजन , कीर्तन से मुक्ति मिल जायेगी.  उन्होंने कहा है:

"कलिजुग केवल नाम अधारा ,सिमिर सिमिर नर उतरहिं पारा .
चहु जुग चहु श्रुति नाम प्रभाउ ,कलि बिशेस नहीं आन उपाऊ .."

मानस में ही तुलसी ने अन्यत्र कहा है:

"एही कलि काल न साधन दूजा, जोग जग्य जप तप व्रत पूजा.
रामहि सुमिरिअ गाइअ रामहि संतत सुनीअ राम गुन ग्रामहि.."
विशेष :+++++++++
इस प्रकार हम सौभाग्यशाली जीव, गाते बजाते , ब्लॉग लिखते लिखाते और इसी बहाने अपने इष्ट का स्मरण करते तथा ब्लॉग पढने वालों को उनके इष्ट का स्मरण कराते, स्वयं भी मुक्त हो जायेंगे और सहपाठियों को भी साथ ले जायेंगे..देखिये कितनी बड़ी कृपा की है हमारे प्यारे प्रभु ने हम- कलियुगी जीवों पर !एक बात और है. प्रियजनों. मैं यह नही चाहता कि आप मेरे कहने पर अपने इष्ट के स्थान पर "मेरे राम'" को भजें. आप अपने इष्ट, जिन पर आपको श्रद्धा है कृपया उन्ही को याद करें, उन्ही का भजन कीर्तन करे, पर कृपया जो भी करिये, पूरी श्रद्धा और पूरे विश्वास के साथ करिये .

0 comments:

Post a Comment