1 जनवरी को ही क्यों माना जाता है नया साल !!क्रिसमस डे है इतना खास, जिसके मनाने के लिए रचा गया 1 जनवरी का कैलेंडर !! ~ Balaji Kripa

Sunday, 21 December 2014

1 जनवरी को ही क्यों माना जाता है नया साल !!क्रिसमस डे है इतना खास, जिसके मनाने के लिए रचा गया 1 जनवरी का कैलेंडर !!

1 जनवरी से मनाए जाने वाले नए साल की शुरुआत 15 अक्टूंबर 1582 से की गई। 1 जनवरी से शुरु होने वाले कैलेंडर का नाम ग्रिगोरियन कैलेंडर है। ग्रिगोनियन कैलेंडर की शुरुआत ईसाईयों के सबसे खास त्योहार ईस्टर यानी कि क्रिसमस डे के आयोजन की तिथि को निश्चित करने के लिए की गई। उस समय में रूस का जूलियन कैलेंडर प्रचलन में था। जूलियन कैलेंडर में गणना संबंधी त्रुटियां रह जाती थी। जिसके कारण क्रिसमस डे साल में कभी कई दिनों पहले, तो कभी कई दिनों बाद मनाया जाता था। क्रिसमस डे को एक निश्चित दिन आयोजित किया जा सकें। इसीलिए अमेरिका के नेपल्स  के फिजीशियन एलायसिअस लिलिअस ने एक नया कैलेंडर प्रस्तावित किया। कुछ सुधारों के बाद 24 फरवरी 1582 को राजकीय आदेश से औपचारिक तौर पर अपना लिया गया। राजकीय आदेश पोप ग्रिगोरी ने दिया था। ग्रिगोरी के नाम के आधार पर ही इस कैलेंडर का नाम ग्रिगोरियन रखा गया। गणना संबंधी त्रुटियों को दूर कर इसे 15 अक्टूंबर 1582 को लागू किया गया। तभी से इसे लागू माना जाता है।आज ग्रिगोरियन कैलेंडर पूरी दुनिया में मशहूर है। जिसके आधार पर ही प्रभु यीशु का जन्मदिन 25 दिसंबर को मनाना सुनिश्चित किया गया ।

0 comments:

Post a Comment