एक मंत्र से करे नवग्रह शांति की शान्ति !! ~ Balaji Kripa

Tuesday, 27 January 2015

एक मंत्र से करे नवग्रह शांति की शान्ति !!

शास्त्रों में नवग्रह शांति के कई मंत्र दिए हैं। जिनका जप ग्रहों की प्रसन्नता के लिए किया जाता है। ये मंत्र उच्चारण में कठिन होते हैं जिसके कारण ही हर किसी के लिए इनका जप आसान नहीं होता है। गलत उच्चारण का परिणाम भी सही नहीं मिलता है। इसलिए यहां नवग्रह का सरल मंत्र दिया जा रहा है। जिसका जप करने से ग्रहों को अपने अनुकूल करने में मदद मिल सकती है।

नवग्रह शांति मंत्र

ऊँ ब्रह्मा मुरारिस्त्रिपुरान्तकारी भानुः शशी भूमिसुतो बुधश्च ।
गुरुश्च शुक्रः शनि राहु केतवः सर्वे ग्रहा शान्तिकरा भवन्तु ।।
मंत्र का अर्थ
अर्थात् हे ब्रह्मा, विष्णु और शिव, मैं आपको नमस्कार करता/करती हूं। हे त्रिदेव आप सूर्य, चंद्र, मंगल ,बुध गुरु, शुक्र, शनि, राहु, केतु सभी ग्रहों के अशुभ प्रभावों को शांत कर दो। ये ग्रह मेरे जीवन में शुभ प्रभाव दें।

2 comments: