मुहूर्त क्या होता है तथा इस का क्या प्रभाव होता है जीवन पर !! ~ Balaji Kripa

Wednesday, 18 February 2015

मुहूर्त क्या होता है तथा इस का क्या प्रभाव होता है जीवन पर !!

मुहूर्त का अर्थ है किसी कार्य विशेष को करने के लिए सही समय का चुनाव !सही समय में प्रारंभ किया गया कार्य शीघ्र ही पूर्ण होता है और सफल रहता है इसके विपरीत अनुचित समय में प्रारम्भ किया गया कार्य समय पर पूर्ण नहीं हो पाता और उसमें असफलता की सम्भावना भी अधिक बनी रहती है !उचित मुहूर्त बिना किये गये कार्य में विभिन्न विघ्न आते हैं, अनेक समस्याएं खड़ी हो जाती हैं और कार्य पूर्ण नहीं हो पाता है !इसीलिए हमारे पूर्वजों नें मुहूर्त की व्यवस्था की, ताकि उचित समय में किसी कार्य विशेष को प्रारम्भ किया जा सके !समय और ग्रहों का प्रभाव जड़, चेतन, मानव, पशु, पक्षी, प्रकृति आदि सब पर पड़ता है !संसार का कोई ऐसा पदार्थ नहीं, जिस पर समय अपना प्रभाव न दिखाता हो, समय के वशीभूत हुए बड़े- बड़े पहाड़ टूटकर मिट्टी में तब्दील हो जाते हैं, बड़े- बड़े गड्ढे भरकर समतल हो जाते हैं !आपमें से कौन ऐसा है जिसने समय के साथ अच्छी- अच्छी चीजों को बदलते न देखा हो, समय ने हर फैशन, संस्कृति, आदतों, डिजाइनों, तकनीकों, तौर- तरीकों सबको बदला है और ये सब आपने, हमने सबने देखा है ! इसीलिए कहते हैं कि "वक्त बड़ा बलवान है" और ये अत्यन्त परिवर्तन शील है !करोड़ों, अरबों रूपये देकर भी आप एक सैकिंड को भी नहीं खरीद सकते ! हां इस वक्त का सदुपयोग अवश्य किया जा सकता है ! संसार के सभी सफल लोगों को यदि हम पढ़ें तो उनके जीवन में एक ही समानता है कि उन्होनें "सही वक्त पर सही निर्णय लिया" और दुर्भाग्यशाली जिन्हें हम कहते हैं, उनके मुंह से एक ही बात निकलेगी की ओह ! वक्त पर चूक गए !शास्त्रों में इसी समय के सदुपयोग का नाम मुहूर्त है !वास्तव में सही समय पर सही कार्य को करने कि कला का नाम मुहूर्त है !एक बीज भी सही समय पर न बोने से खराब हो जाता है और उचित समय, मौसम, प्रकृति का विचार करके खेती किये जाने पर श्रेष्ठतम समृद्धि कि प्राप्ति होती है !कौन सा ऐसा क्षेत्र है जहां आप समय, मुहूर्त का विचार नहीं करते ? किसी भी पर्यटन स्थल पर जाते हुए, पहाड़ पर चढ़ाई करते हुए, यात्रा के लिए निकलते हुए, बच्चे का एडमिशन करने के लिए, इन्वैस्टमेंट करते हुए, बच्चे का करियर चूज़ करते हुए, कहां आप बिना समय को देखे निर्णय लेते हैं !बस इन्हीं सब जीवन के आवश्यक कार्यों को करने के लिए हमारे प्राचीन ऋषिमुनियों नें कुछ ऐसे नक्षत्र, घडियां, तिथियां, वार आदि का विचार अपने गहन अनुसंधान, अपने तप, अपनी आंतरिक एवं अलौकिक शक्तियों के द्वारा किया है, जिसका उपयोग करने पर आप अदभुत आश्चर्यजनक परिणामों कि प्राप्ति उतने ही परिश्रम, इन्वैस्टमेंट, साधनों के उपयोग के द्वारा कर सकते हैं !और बस इसी समय का, स्थान का विचार करने को ही मुहूर्त कहा गया है ! रोग होने पर उचित समय में दवाई खाना शुरू करने पर रोग शीघ्र ठीक हो जाता है, मुहूर्त निकालकर आपरेशन करने पर सफलता से कष्ट दूर हो जाता है ! उचित मुहूर्त में केस दायर करने पर जीत की प्राप्ति होती है, शुभ मुहूर्त में वाहन खरीदने पर दुर्घटना से बचाव कर सकते हैं, शुभ मुहूर्त में व्यवसाय प्रारम्भ करने पर अच्छे लाभ की प्राप्ति होती है, जीवन के हर क्षेत्र को एक शुभ मुहूर्त की आवश्यकता है और आपकी इसी जरुरत को समझते हुये आपके गर्भ में शिशु आने से लेकर उसके सफलता के शिखर पर चढ़ने तक के मुहूर्त, आपके जीवन की हर ख़ुशी लम्बी रहे इसके लिए मुहूर्त, आपके कष्ट, दुःख, विपदाएं जल्दी से आपको छोड़ दें इसके लिए मुहूर्त, आपके हितकारी मित्र की तरह आपका साथ दें !


0 comments:

Post a Comment