अगर संतान को बनाना है संस्कारी तो न बने गान्धारी और धृतराष्ट्र !! ~ Balaji Kripa

Tuesday, 21 April 2015

अगर संतान को बनाना है संस्कारी तो न बने गान्धारी और धृतराष्ट्र !!


परिवार पति-पत्नी और संतान के अलावा अन्य रिश्ते भी शामिल होते हैं। सुखी वैवाहिक जीवन के लिए सभी रिश्तों पर उचित ध्यान देना चाहिए, यदि किसी एक पक्ष में भी ध्यान नहीं दिया गया तो परेशानियां उत्पन्न हो सकती हैं। इस बात को धृतराष्ट्र और गांधारी के जीवन से समझा जा सकता है !
इस कारण धृतराष्ट्र और गांधारी के पुत्र संस्कारहीन हो गए !!
धृतराष्ट्र जन्म से अंधे थे। उनका विवाह सुंदर गांधारी से हुआ। गांधारी ने जब देखा कि मेरे पति जन्म से अंधे हैं तो उसने भी अपनी आंखों पर पट्टी बांध ली। पिता अंधा था, माता ने अंधत्व ओढ़ लिया। दोनों अपनी संतानों के प्रति कर्तव्य से विमुख हो गए। संस्कार और शिक्षा दोनों की व्यवस्था सेवकों के हाथों में आ गई। माता-पिता में से कोई भी उनकी ओर देखने वाला नहीं था। सो, सारी संतानें दुराचारी हो गईं।अगर गृहस्थी की बात करें तो यह शुरू होती है दाम्पत्य से। पति-पत्नी के रिश्ते में समर्पण, प्रेम और कर्तव्य का भाव ना हो तो गृहस्थी सफल हो ही नहीं सकती। हमारे प्रेम और कर्मों से ही हमारी संतानों के संस्कार और भविष्य दोनों जुड़े हैं। पति-पत्नी सिर्फ खुद के लिए ना जीएं, संतान हमारी सम्पत्ति हैं, इन्हें व्यर्थ ना जाने दें। संस्कार दें, समझ दें और कर्तव्य का भाव पैदा करें।गांधारी अगर यह सोचकर आंखों पर पट्टी नहीं बांधती कि संतानों का क्या होगा, उनके लालन-पालन की व्यवस्था कौन देखेगा तो शायद महाभारत का युद्ध होने से रुक जाता। लेकिन पति-पत्नी ने सिर्फ अपने दांपत्य के सुख को देखा, गृहस्थी यानी संतान और अन्य कामों की तरफ ध्यान ही नहीं दिया। संतानें सिर्फ संपत्ति नहीं होती, वे हमारा कर्तव्य भी हैं। अगर अपने रिश्तों में इस बात का ध्यान नहीं दिया तो परिणाम भी हमें ही देखना होगा।

0 comments:

Post a Comment